CricketSports

क्रिकेट इतिहास की वो अनोखी हैट ट्रिक, जो 3 ओवर में पूरी हुई।

हैटट्रिक, वैसे तो ये लफ़्ज़ क्रिकेट के मैदान पर होने वाले बहुत से कारनामों में से बस एक और कारनामा है। हैटट्रिक एक ऐसी करामात है, जिसमें एक ही गेंदबाज़ लगातार तीन गेंदों पर तीन विकेट लेने का लाजवाब काम करता है। मगर, ये काम जितना रोमांचक है उतना ही मुश्किल भी है।

यही वजह है कि सवा सौ साल पुराने क्रिकेट इतिहास में चंद गेंदबाज़ ही इस करिश्माई कारनामे को अंजाम दे पाये हैं।इस दौरान क्रिकेट ने एक से बढ़कर एक महान गेंदबाज़ देखे। मगर, हर महान खिलाड़ी के रिकॉर्ड में हैटट्रिक नाम का हीरा नहीं सज पाया। अभी तक अंतर्राष्ट्रीय क्रिकेट में कुल 120 मौके ऐसे आयें हैं

जब किसी गेंदबाज़ ने हैटट्रिक ली हो और उसमें से तीन बार ये कारनामा तो इसी टी-ट्वेंटी विश्व कप में हो चुका है। यही वजह रही कि हमारा ध्यान इंटरनेशनल क्रिकेट में ली गई हैटट्रिक के चार्ट पर गया। कई घंटों इस चार्ट पर रिसर्च करने के बाद हमें हैटट्रिक से जुड़े कुछ ऐसे रिकॉर्ड मिले जो शायद ही कभी दोहराये जायें। हमने सोचा क्यों ना रोमांच से भरे ये पल आप से भी साँझा किये जायें।

तो, चलिये अनोखी हैटट्रिकों के इस सफ़र की शुरूआत करते हैं। भारत के विरुद्ध ली गई हैटट्रिक से –

Aaqib-Javed -Pakistan-NaaradTV
आक़िब जावेद (पाकिस्तान)

#5: आक़िब जावेद (पाकिस्तान):-

बात साल 1991 में हुई विल्स ट्रॉफी फाइनल की है। दबाव भरे उस मैच में पाकिस्तान ने भारत को 50 ओवरों में 263 रनों का लक्ष्य दिया। सितारों से सजी भारतीय बैटिंग लाइनअप देखते हुए मैच के रोमांचक होने की उम्मीद थी। मगर, पाकिस्तानी तेज़ गेंदबाज़ आक़िब जावेद के इरादे करिश्मे करने के थे। उस रोज़ आक़िब ने सिर्फ़ 37 रन देकर 7 विकेट लिये। इस दौरान आक़िब ने रवि शास्त्री, अज़हरुद्दीन और सचिन को लगातार तीन गेंदों पर आउट कर हैटट्रिक भी ली।

इस हैटट्रिक की ख़ास बात ये थी कि आक़िब ने ये कारनामा करने के लिये किसी फ़ील्डर की मदद नहीं ली। आक़िब ने तीनों विकेट एलबीडबल्यू आउट के रूप में ही लिये। अब ये आक़िब की अच्छी किस्मत थी या श्रीलंकाई अंपायर उडाया विक्रमसिंघे की मेहरबानी। पता नहीं! मगर, एक ही तरह से तीन विकेट लेने के चलते आक़िब की ये हैटट्रिक अनोखी हैटट्रिक ज़रूर बन गई।

 इस लिस्ट में अगले नंबर पर है –

Chaminda -Vaas -SriLanka
चामिंडा वास (श्रीलंका)

#4: चामिंडा वास (श्रीलंका):-

 दोस्तों, क्रिकेट में हर टीम मैच की अच्छी शुरुआत करना चाहती है। और! बात जब पहले गेंदबाज़ी की हो। तो, पहले ओवर फेंकने वाले गेंदबाज़ की ज़िम्मेदारी बहुत अधिक बढ़ जाती है। 2003 विश्व कप में चामिंडा वास बांग्लादेश के विरुद्ध मैच में इस ज़िम्मेदारी को कुछ ज़्यादा ही सीरियस ले गये। इस महान श्रीलंकाई तेज़ गेंदबाज़ ने उस रोज़ कुछ ऐसा किया, जो क्रिकेट इतिहास का इकलौता लम्हा बनकर रह गया। वास ने मैच की पहली तीनों गेंदों पर बांग्लादेश के पहले तीनों बल्लेबाज़ों को पवेलियन का रास्ता दिखाया।

वास ने हनन सरकार, मोहम्मद अशराफ़ुल और एहसानुल हक़ के विकेटों के साथ हैटट्रिक ली। इस तरह वास मैच की पहली गेंद से ही हैटट्रिक लेने वाले पहले खिलाड़ी बन गये। इतना ही नहीं! वास ने इस क़ातिलाना शुरुआत के बाद ओवर की पाँचवीं गेंद पर बांग्लादेश के चौथे बल्लेबाज़ को भी धाराशायी कर दिया। इस तरह उस रोज़ सिर्फ़ एक ओवर के बाद ही बांग्लादेश का स्कोरकार्ड 5 रन पर 4 विकेट जैसा अजीबोग़रीब स्कोर दिखा रहा था। जिसके सूत्रधार इतिहासिक हैटट्रिक लेने वाले चामिंडा वास थे।

यह भी पढ़ें:- 2011 वर्ल्ड कप की जीत दिलाने वाले कोच गैरी कर्स्टन की कहानी।

 हैटट्रिकों से जुड़े अनोखे रिकॉर्डों की लिस्ट में अगले नंबर पर हैं – 

Jimmy-Mathews-NaaradTV
जिमी मैथ्यूज़ (ऑस्ट्रेलिया)

#3: जिमी मैथ्यूज़ (ऑस्ट्रेलिया):-

दोस्तों, पहली बार सुनने में ये नाम जाना पहचाना-सा लगता है। मगर, हम जिस जिमी मैथ्यूज़ की बात कर रहे हैं। वो ऑस्ट्रेलिया के लिए साल 1912 में पहली और आख़िरी बार नज़र आये थे। जिमी ने अपने आठ मैच के छोटे से टेस्ट कैरियर में वो कारनामा किया था। जो क्रिकेट के 145 साल के इतिहास में दोबारा कभी नहीं हुआ और वो कारनामा था, एक ही मैच में दो हैट ट्रिक लेना। जी दोस्तों! आपने सही सुना। ऑस्ट्रेलियाई लेग स्पिनर जिमी मैथ्यूज़ क्रिकेट इतिहास में एक ही मैच में दो हैट ट्रिक लेने वाले इकलौते खिलाड़ी हैं।

इस रिकॉर्ड की सबसे ख़ास बात ये है कि जिमी ने उस टेस्ट में कुल 6 विकेट लिये और सभी हैटट्रिक विकेट थे। जिमी ने पहली हैटट्रिक साउथ अफ़्रीका की पहली पारी के 8वें, 9वें और 10वें विकेटों के साथ पूरी की। जबकि, दूसरी पारी में छठा, सातवाँ और आठवाँ विकेट लगातार लेकर मैच की दूसरी हैट ट्रिक ली। हालाँकि, जिमी इस करिश्मे के अलावा अपने कैरियर में बस 10 विकेट और ले पाये। मगर, एक मैच में दो हैटट्रिक लेने के इस कारनामें ने उन्हें क्रिकेट रिकॉर्ड बुक में अमर कर दिया। 

 दोस्तों, अजीबो-ग़रीब हैटट्रिक लेने के मामले में दूसरे नंबर पर हैं –

Merv-Hughes-Australia-NaaradTV
मर्व ह्यूज्स (ऑस्ट्रेलिया)
#2: मर्व ह्यूज्स (ऑस्ट्रेलिया):-

 बड़ी-बड़ी मूछे और पहलवानों जैसा शरीर रखने वाले ऑस्ट्रेलियाई तेज़ गेंदबाज़ मर्व ह्यूज्स को उनकी गेंदों की तेज़ी के लिये याद किया जाता है। अपने क़रीब 8 साल लम्बे अंतर्राष्ट्रीय कैरियर में मर्व ह्यूज्स ने कई रिकॉर्ड बनाये हैं। मगर, तीन ओवर और 2 पारियों में हैटट्रिक लेने का दुर्लभ कारनामा मर्व ह्यूज्स के कैरियर की उपलब्धियों में चार चाँद लगा देता है। बात 1988-89 सीज़न में वेस्टइंडीज़ और ऑस्ट्रेलिया के बीच खेले गये पर्थ टेस्ट की है।

वेस्टइंडीज़ की पहली पारी में अपने 36वें ओवर की आख़िरी गेंद पर ह्यूज्स ने कर्टनी वॉल्श को आउट किया। इसके बाद ह्यूज्स ने अगले ओवर की पहली गेंद पर आख़िरी बल्लेबाज़ पैट्रिक पैटरसन को आउट कर वेस्टइंडीज़ की पारी समेट दी। फिर ह्यूज्स ने वेस्टइंडीज़ की दूसरी पारी की पहली ही गेंद पर गॉर्डन ग्रीनिज को एलबीडबल्यू आउट किया और 3 ओवर लम्बी हैटट्रिक पूरी की। इस हैटट्रिक की एक ख़ास बात ये भी थी कि दो पारी लम्बी चली हैटट्रिक के बारे में ह्यूज्स को पता भी नहीं था। मैच के बाद ह्यूज्स को पता चला कि उन्होंने इतिहास की सबसे अनोखी और रोमांचक हैटट्रिक हासिल की है।

अनोखी हैटट्रिक की इस लिस्ट में टॉप पर है –

Akila-NaaradTV1
अकीला धनंजय (श्रीलंका)
#1: अकीला धनंजय (श्रीलंका):-

 दोस्तों, क्रिकेट प्रेमी हमेशा ये चाहते हैं। कि, मैच में गेंद और बल्ले के बीच बराबरी का मुक़ाबला देखने को मिले। हालाँकि, ऐसा हर बार नहीं होता है। मगर, हम इसी साल 4 मार्च को हुए जिस मैच की बात कर रहे है। उसे रोमांचक बनाने की ज़िम्मेदारी सिर्फ़ एक गेंदबाज़ ने उठा रखी थी। उस मैच में श्रीलंका ने वेस्टइंडीज़ के सामने जब 132 रनों का लक्ष्य रखा। तो, मैच का एकतरफ़ा होना तय था। यहीं पिक्चर में आये श्रीलंकाई स्पिनर अकीला धनंजय।

अकीला ने वेस्टइंडीज़ पारी के चौथे ओवर की दूसरी, तीसरी और चौथी गेंद पर एविन लुइस, क्रिस गेल और निकोलस पूरन के विकेट लेकर हैटट्रिक पूरी की। इस हैटट्रिक के साथ अकीला इतिहास में शामिल हो चुके थे। लेकिन, अभी इतिहास और फ़ैन्स को एक करिश्मा होते हुए भी देखना था। वेस्टइंडीज़ के लगातार विकेट गिरते देख कप्तान पोलार्ड ने काउंटर अटैक शुरू किया और उनके हत्थे लगे अकीला धनंजय।

पोलार्ड ने एक ओवर पहले हैटट्रिक लेने वाले अकीला को अगले ओवर में 6 छक्के मार दिये। पोलार्ड युवराज के बाद टी-ट्वेंटी क्रिकेट में 1 ओवर की सभी गेंदों पर छक्के मारने वाले दूसरे खिलाड़ी बनें। मगर, बात यहाँ पोलार्ड के छक्कों की नहीं अकीला की हैटट्रिक की है। अकीला के साथ जो हुआ, वो गली क्रिकेट में भी नहीं होता है। एक ओवर में हैटट्रिक और अगले ओवर की सभी गेंदों पर छक्के।

 

Show More

Related Articles

Back to top button
error: Content is protected !!