BollywoodBollywood FamilyFilmy Facts

बॉलीवुड की दस बेहतरीन फ़िल्मे जो कभी रिलीज़ न हो सके।

हिंदी फिल्म इंडस्ट्री में हर वर्ष जाने कितनी ही फिल्में बनती हैं और रिलीज़ होती हैं तो वहीं ढेरों ऐसी फिल्में भी होती हैं जिन्हें बनाने की योजनाएं तो बनती हैं लेकिन वे कभी मूर्त रूप नहीं ले पाती हैं। बहुत सी ऐसी फिल्में भी बनीं जो पूरी होते-होते रह गयीं या पूरी होकर भी दर्शकों के समक्ष कभी आ ही न सकीं।

इन फिल्मों को पहले मीडिया द्वारा डब्बा बंद हो चुकी फिल्मों का दर्जा दिया जाता था। ऐसी ही कुछ डब्बा बंद फिल्मों का ज़िक्र हम आज करने वाले हैं जिनमें से कुछ के नाम सुन कर यक़ीनन आपको बहुत ही ताज्जुब होगा।

फिल्म: ‘अपना पराया’

दोस्तों हिंदी फिल्मों में जब भी कभी बेस्ट जोड़ियों की बात होती है तो उनमें एक बहुत ही ख़ास जोड़ी का नाम जेहन में आ ही जाता है और वे नाम हैं अमिताभ बच्चन और रेखा, जो पहली बार फिल्मदो अनजानेमें एक साथ नज़र आये थे।

लेकिन कम लोगों को ही पता होगा कि इससे पहले उन्हें लेकर अपना परायानाम की एक फ़िल्म शुरू हुई थी लेकिन कुछ दिनों की शूटिंग के बाद ही इसे बंद कर दिया गया और यह फिल्म इस बेहद सफल जोड़ी की पहली फिल्म का दर्जा पाने से वंचित रह गयी।

दोस्तों आपने आमिर ख़ान की फिल्म सरफ़रोश तो ज़रूर ही देखी होगी। ऐसी शानदार फिल्म का नाम शायद ही कभी कोई भूला सकता है लेकिन आपको शायद न मालूम हो कि कभी इसी नाम से एक और फिल्म बनी थी जिसके निर्देशक थे मनमोहन देसाई और उस फिल्म में अमिताभ बच्चन, ऋषि कपूर, क़ादर ख़ान, शक्ति कपूर और परवीन बाबी जैसे उस दौर के बेहद सफल एक्टर्स भी शामिल थे।

फ़िल्म: ‘ख़ुदा गवाह’

यह फ़िल्म किस वज़ह से रिलीज़ न हो सकी इसका तो पता नहीं लेकिन इसमें कोई शक़ नहीं कि अगर यह रिलीज़ हुई होती तो शायद यह भी मनमोहन देसाई और अमिताभ की एक और ब्लाक बस्टर फिल्म साबित हो सकती थी।

अगली जिस फिल्म का नाम है लेने वाले हैं उसके नायक भी अमिताभ बच्चन ही थे और उस फिल्म का नाम था “ख़ुदा गवाह। आप शायद यही सोच रहे होंगे कि यह फिल्म तो रिलीज़ भी हो चुकी है और आपने देखी भी है। लेकिन हम आपको बता दें कि वो यह ख़ुदा गवाह नहीं है जिसे आपने देखा है।

दरअसल ख़ुदा गवाह नाम की एक और फिल्म शुरू हुई थी जिसमें अमिताभ बच्चन एक काऊबॉय की भूमिका अदा करने वाले थे लेकिन कुछ दिनों की शूटिंग के बाद ही यह फिल्म भी डब्बा बंद हो गयी। बाद में इसी टाइटल के साथ वर्ष 1992 में अमिताभ बच्चन की फ़िल्म ख़ुदा गवाह आयी।

यह भी पढ़ें:- बॉलीवुड के 10 सबसे प्रभावी किन्नर किरदार।

फिल्म: ज़मीन

दोस्तों ऐसी ही एक और फिल्म का निर्माण शुरू हुआ था जिसका निर्देशन कर रहे थे फिल्म शोले के निर्देशक रमेश सिप्पी। बहुत ही बड़े बजट की इस फ़िल्म में विनोद खन्ना, संजय दत्त, माधुरी दीक्षित और श्रीदेवी जैसे जाने माने ऐक्टर्स काम कर रहे थे और शूटिंग के लिये इस फ़िल्म का बेहद आलीशान सेट भी तैयार हो चुका था लेकिन ज़मीन नाम से बनने वाली यह फिल्म बजट की कमी के कारण बीच में ही बंद हो गयी और फिर कभी फ्लोर पर न आ सकी।

फिल्म: ‘टाइगर’

दोस्तों आपने एक था टाइगर और टाइगर ज़िन्दा है जैसी फिल्मों के नाम तो सुने ही होंगे और काफी लोगों ने इन फिल्मों को देखा भी होगा। लेकिन कई साल पहले टाइगरनाम से ही एक और फिल्म शुरू हुई थी जिसके नायक थे अमिताभ बच्चन।

फिल्म ख़ून पासिनामें अमिताभ बच्चन के किरदार से प्रेरित दो भाइयों की कहानी पर आधारित यह फिल्म भी ऐक्टर और प्रोडूसर में मतभेद हो जाने के कारण डब्बा बंद हो गयी। 

फिल्म: ‘देवा’

इसी लिस्ट में जिस अगली फिल्म का नाम हम लेने वाले हैं उसके भी नायक अमिताभ बच्चन ही हैं। देवानाम से बनने वाली इस फ़िल्म को बना रहे थे निर्माता निर्देशक सुभाष घई लेकिन यह फिल्म भी मीडिया द्वारा शो मैन का दर्जा पाने वाले सुभाष घई और सुपर स्टार अमिताभ बच्चन की ईगो की वज़ह से बलि चढ़ गयी।

फिल्म: ‘बंधुआ’

इस फ़िल्म की शूटिंग कुछ दिनों ही चली थी कि दोनों के बीच कहा -सुनी हो गयी और फिल्म को बंद करना पड़ा। अगली फिल्म है बॉर्डर फिल्म के निर्देशक जे.पी. दत्ता की पहली फिल्म जिसमें अमिताभ और जे पी दत्ता एक साथ काम कर रहे थे।

बंधुआनाम की इस फिल्म में वहीदा रेहमान और पूजा बेदी ने भी अभिनय किया था लेकिन बहुत ही लगन और मेहनत से बनी यह फ़िल्म कयों न रिलीज़ हो सकी इसका कारण कभी समझ नहीं आया।

फिल्म: टाइम मशीन- अंग्रेज़ी फ़िल्म ‘Back To The Future’

टाइम मशीन- अंग्रेज़ी फ़िल्म ‘Back To The Future’ से प्रेरित निर्देशक शेखर कपूर की इस फिल्म में आमिर खान के साथ रवीना टंडन और नसीरुद्दीन शाह मुख्य भूमिकाओं में थे।

मीडिया द्वारा हमेशा ख़बरों में रहने और फ़िल्म की काफ़ी हद तक शूटिंग हो जाने के बावज़ूद न जाने क्यों बीच में ही यह फिल्म बंद हो गयी। बताया गया कि फिल्म बनने में देरी होने से निर्देशक शेखर कपूर किसी दूसरे बड़े प्रोजेक्ट में व्यस्त हो गये और फिल्म डब्बा बंद हो गयी।

फिल्म: ‘मुन्ना भाई चले अमरीका’

मुन्ना भाई एम बी बी एसऔर लगे रहो मुन्ना भाईफ़िल्म की सफ़लता के बाद विधु विनोद चोपड़ा और राजकुमार हिरानी ने इस सीरीज़़ के तीसरे पार्ट का मन बनाया और काम शुरू किया और इस फिल्म का नाम रखा गया मुन्ना भाई चले अमरीका

वर्ष 2007 में इसका ट्रेलर लॉन्च होने के बावज़ूद यह बहुप्रतिक्षित फिल्म कभी न बन सकी जिसका मुख्य कारण था संजय दत्त का जेल जाना।

दोस्तों आपने फिल्म दस के बारे में तो सुना ही होगा जो निर्देशक मुकुल आनंद के आसमयिक निधन की वज़ह से कभी पूरी न हो सकी। लेकिन कम लोगों को ही पता होगा कि अंकों पर आधारित ऐसी ही एक और फिल्म बनी थी जो निर्देशक अनुराग कश्यप द्वारा पहली निर्देशित फिल्म थी।

फिल्म : ‘पाँच’

“पाँचनाम से बनी इस फ़िल्म में बहुत अत्यधिक ख़ून ख़राबा और ड्रग्स से जुड़े दृश्यों का इस्तेमाल हुआ था जिसकी वज़ह से सेंसर बोर्ड ने इसके अधिकांश दृश्यों को हटाने के लिये कहा और मजबूरन अनुराग को यह फ़िल्म डब्बा बंद करनी पड़ी क्योंकि उन दृश्यों के हट जाने के बाद वह फिल्म आधी अधूरी सी लगती और उसके रिलीज़ का कोई मतलब ही नहीं होता।

अंत में हम जिस फिल्म का नाम लेने वाले हैं उसके निर्देशक हैं विकी डोनर, पिकु और पिंक जैसी बेहतरीन फिल्मों से चर्चित हुए निर्देशक शुजित सरकार जो कई साल पहले एक मीडिया कंपनी के प्रोडक्शन में अमिताभ बच्चन के साथ एक फिल्म की तैयारी में लगे थे।

फिल्म: ‘शूबाईट’

उस वक़्त फ़िल्म का नाम रखा गया Johnny Walker हालांकि बाद में शुजित ने इस फ़िल्म के राइट्स  UTV Motion Pictures को दे दिए और उस फिल्म का नाम बदलकर शूबाईटकर दिया दिया। लेकिन फ़िल्म के राइट्स को लेकर दोनों प्रोडक्शन्स हाउस में विवाद हो गया और एक लंबी क़ानूनी लड़ाई के बाद यह फिल्म भी डब्बा बंद हो गयी।

यू ट्यूब पर देखें –

 

 

 

Show More

Related Articles

Back to top button
error: Content is protected !!