BiographyCricketSports

मोहम्मद शमी का संघर्ष से सफलता तक का सफर

दोस्तों जिंदगी की लड़ाई तो हर कोई लड़ता है, मगर जो योद्धा होते हैं वो इक कहानी बन जाते हैं और कहानी भी ऐसी कहानी जो बनती है ना जाने कितनी कठिनाइयों से ना जाने कितनी कुर्बानियों से और ना जाने कितनी असफलताओं से। बात चाहे जंग के मैदान की हो या खेल के मैदान की योद्धा को तो अपनी कुशलता साबित करने के लिए बस एक अवसर चाहिए रहता है

और उस अवसर को उपयोगी जो भी योद्धा बनाता है ,तो वह सर्वकाल के लिए इतिहास में अपनी जगह स्थापित कर ले जाता है। हम आपसे बात करेंगे क्रिकेट जगत के एक ऐसे योद्धा की जिसने अवसर मिलने पर उसे उपयोगी भी बनाया और साथ ही अवसर को निरंतर उत्सर्जित करने की क्षमता को भी अर्जित किया।

जी हां दोस्तों आज हम आपसे बात करने जा रहे हैं एक ऐसे भारतीय क्रिकेट खिलाड़ी की जिसका सफर तो शुरू हुआ उत्तर प्रदेश की तंग गलियों से लेकिन उसने अपने स्थायित्व का झंडा गाढ़ा अंतरराष्ट्रीय क्रिकेट पटल पर । जी हां हम आपसे बात कर रहे हैं भारतीय तेज गेंदबाज मोहम्मद शमी की।

Mohammed Shami

आपको बता दें कि मोहम्मद शमी का जन्म 3 सितंबर साल 1990 को अमरोहा के एक छोटे से गांव साहसपुर उत्तर प्रदेश में हुआ मोहम्मद शमी का पूरा नाम मोहम्मद शमी अहमद है। उनके पिता का नाम तोसिफ अली और मां का नाम अंजुम अरा है। इसके अलावा शमी के परिवार में एक बहन और तीन भाई भी हैं मोहम्मद शमी के पिता पेशे से किसान थे

और एक किसान के घर में पैदा होने के कारण शमी की शारीरिक संरचना एक पेशेवर खिलाड़ी बनने के लिए बचपन से ही बिल्कुल उपयुक्त थी । मोहम्मद शमी का क्रिकेट सफर बचपन में उनके भाइयों के साथ खेलते हुए शुरू हुआ शमी के साथ साथ उन के तीनो भाई भी एक पेशेवर तेज गेंदबाज बनना चाहते थे ।

Read this also-Sanjay Dutt की शादी और अफेयर्स के किस्से

लेकिन मोहम्मद शमी की विलक्षण कला  राइट आर्म फास्ट शैली की गेंदबाजी को देखते हुए उनके पिता उनसे खासे प्रभावित हुए और साल 2005 में उन्होंने शमी का दाखिला मुरादाबाद की एक क्रिकेट एकेडमी में करवा दिया जहां पर शमी को ट्रेन किया कोच बदरुद्दीन सिद्दीकी ने , शमी के अंदर तेज गेंदबाजी की बेहद ही शानदार कला को देखते हुए

उनके कोच उनसे बहुत प्रभावित हुए और शमी को कई दिनों की ट्रेनिंग देने के बाद उनके कोच उन्हें अंडर-19 ट्रायल्स के लिए ले गए परंतु कुछ आंतरिक राजनीति के कारण शमी को under- 19 ट्रायल्स में पिक नहीं किया गया। इसके  बाद शमी के अंदर खेल की बेहतरीन प्रतिभा और लगन को देखते हुए उनके कोच ने शमी के पिता से शमी को कोलकाता भेजने की बात कही

जिसके बाद शमी को कोलकाता भेजा गया और यहां रहते हुए शमी ने Dalhousie athletic club से खेलना शुरू किया , जब मोहम्मद शमी इस क्लब के लिए खेल रहे थे, तब उन पर नजर पड़ी बंगाल क्रिकेट एसोसिएशन के सेक्रेटरी Debabrata Das की .

Mohammed Shami

दास मोहम्मद शमी की गेंदबाजी से बहुत ज्यादा प्रभावित हुए और उन्होंने शमी को 75000 का कॉन्ट्रैक्ट ऑफर करते हुए टाउन क्लब से खेलने के लिए साइन कर लिया और इसी क्लब से खेलने के दौरान मोहम्मद शमी का चयन बंगाल अंडर – 22 टीम में भी हो गया जिसके बाद शमी ईडन गार्डन में as a net bowler भी जुड़ गए जहां पर उन्होंने सौरव गांगुली को कई बार अभ्यास करवाया।

सौरव गांगुली भी उनकी प्रतिभा से प्रभावित हो चुके थे और गांगुली ने नैशनल सिलेक्टर्स से शमी पर नजर बनाए रखने की अपील भी की । इसके साथ ही मोहम्मद शमी ने अपनी शानदार लय बंगाल के लिए खेलते हुए जारी रखी और घरेलू क्रिकेट में दस्तक देने के लिए उनकी वर्षों से चल रही तपस्या  आखिरकार 2010 में साकार हुई,जहां उनका डेब्यू असम के खिलाफ हुआ और उन्होंने उस मैच में 3 विकेट झटके ।

इसके बाद साल 2012 – 13 रणजी सीजन में भी मोहम्मद शमी ने अपनी खेल प्रतिभा का जौहर दिखाया जहां उन्होंने हैदराबाद के खिलाफ खेलते हुए पहली पारी में 36 रन देकर 4 विकेट झटके वहीं दूसरी पारी में 71 रन देकर 6 विकेट चटकाए और इसके बाद उन्होंने मध्यप्रदेश के खिलाफ भी अहम विकेट निकालकर अपनी टीम को दिए।

Read this also-रोम की गंदगी के बारे में जानकर उल्टी कर देंगे आप

अगर हम बात करें घरेलू मैचों में मोहम्मद शमी के ओवरऑल आंकड़ों की तो शमी ने 73 प्रथम श्रेणी मैच खेले जिसमें उन्होंने 278 विकेट 3.26 की  इकोनामी रेट से चटकाए वहीं शमी ने 110 लिस्ट ए मैच खेले जहां उन्होंने 205 विकेट 5.51 इकोनामी रेट से अपने नाम किए। घरेलू मैचों में इतने जबरदस्त आंकड़े होने के फलस्वरूप शमी को अंतरराष्ट्रीय क्रिकेट जगत की दहलीज में अपना कदम जमाने का मौका मिल गया

,अंतरराष्ट्रीय क्रिकेट जगत में मोहम्मद शमी का डेब्यू साल 2013 में अशोक डिंडा की अनुपस्थिति में पाकिस्तान के खिलाफ एकदिवसीय मैच में हो गया अपने पहले अंतरराष्ट्रीय एकदिवसीय मैच में शमी ने 9 ओवर डाले जहां उन्होंने महज 23 रन देकर एक विकेट भी अपने नाम किया । बात करें यदि मोहम्मद शमी के टेस्ट डेब्यु की तो उनका टेस्ट में डेब्यू नवंबर 2013 को वेस्टइंडीज के खिलाफ हुआ वही उनका t20 डेब्यु साल 2014 में पाकिस्तान के खिलाफ हुआ अभी तक के अंतरराष्ट्रीय क्रिकेट करियर में मोहम्मद शमी के आंकड़े कुछ इस प्रकार है

कि शमी ने कुल 50 टेस्ट 79 ओडीआई व 12 T20 अंतरराष्ट्रीय मैच खेले हैं जिनमें शमी के विकेट क्रमशाह 180 , 144 व 12 है। टेस्ट में शमी का बेस्ट बोलिंग फिगर 118 रन देकर 9 विकेट का रहा, ओडीआई में 69 रन देकर 5 विकेट का रहा वहीं T20 में शमी का बेस्ट बोलिंग फिगर 38 रन देकर 3 विकेट का रहा

Mohammed Shami

रहा।और यदि हम बात करें मोहम्मद शमी के आईपीएल सफर की तो, शमी का आईपीएल करियर 2014 में कोलकाता नाइट राइडर्स के साथ जुड़ने से शुरू हुआ, इसके बाद शमी 2014 से 2018 तक दिल्ली डेयरडेविल्स का हिस्सा रहे। और 2019 से ही वह लगातार किंग्स इलेवन पंजाब की प्लेइंग इलेवन का हिस्सा बने हुए हैं।

बात करें यदि शमी के आईपीएल में ऑल ओवर आंकड़ों की तो शमी ने आईपीएल में अभी तक 63 मैच खेले हैं जिसमें उन्होंने 60 विकेट 33.5 की औसत से अपने नाम किए हैं। मोहम्मद शमी के अभी तक के क्रिकेट करियर को यदि हम आंकड़ों की जुबानी समझे तो एक शब्द का निष्कर्ष ” शानदार” ही निकाल सकते हैं,

और इस निष्कर्ष को शमी के करियर का अभी तक का सार बनाने में सबसे बड़ा श्रेय जाता है शमी की मेहनत और उनकी कला को, आपको बता दें कि आज के दौर में मोहम्मद शमी अंतरराष्ट्रीय क्रिकेट जगत में रिवर्स स्विंग स्पेशलिस्ट की उपाधि प्राप्त कर चुके हैं आज के दौर में मोहम्मद शमी की गेंदबाजी की औसत गति 145 से 150 किलोमीटर प्रति घंटा है जो कि एक तेज गेंदबाज के लिए बहुत ही आदर्श गति है।

Watch on You Tube-

आइए हम बात करें अंतरराष्ट्रीय क्रिकेट जगत मोहम्मद शमी द्वारा  हासिल किए गए उन milestones की जिनकी वजह से ही शायद शमी का नाम आज अंतरराष्ट्रीय क्रिकेट में इतने जोरो से गूंज रहा है, सबसे पहले हम बात करते हैं वर्ल्ड कप 2015 की , जिसमें भले ही भारत सेमीफाइनल में बाहर हो गया था ।

लेकिन उस वर्ल्ड कप में भारतीय तेज गेंदबाजी की बहुत बड़ी जीत हुई थी ,आपको बता दें उस वर्ल्ड कप में मोहम्मद शमी भारत की तरफ से दूसरे सबसे ज्यादा विकेट लेने वाले गेंदबाज बने थे शमी ने 7 मैचों में 17 विकेट चटका कर यह मुकाम अपने नाम किया था। और वर्ल्ड कप के पहले मैच में ही पाकिस्तान के खिलाफ 35 रन देकर चार विकेट झटकने के बाद भारत को टूर्नामेंट में एक बेहद ही धुआंधार आगाज भी मोहम्मद शमी ने ही दिया था।

अंतरराष्ट्रीय क्रिकेट जगत में शमी का दूसरा milestone जुड़ता है विश्व कप 2019 में अफगानिस्तान के खिलाफ ली गई उनकी हैट्रिक जिसके बाद भारत ने वह मैच 11 रनों से जीता था । और विश्व कप में भारत की तरफ से हैट्रिक लेने वाले मोहम्मद शमी चेतन शर्मा के बाद दूसरे ही खिलाड़ी बन गए थे।अंतरराष्ट्रीय क्रिकेट जगत में मोहम्मद शमी का तीसरा बड़ा milestone जुड़ता है

अपने टेस्ट डेब्यु में 5 विकेट लेना, हर एक गेंदबाज का सपना होता है कि उसका  डेब्यू  बहुत ही आकर्षक बने, पर बमुश्किल कुछ ही गेंदबाज  इसको साकार कर पाते हैं ,और मोहम्मद शमी उनमें से एक गेंदबाज बने। दरअसल बात 2013 टेस्ट सीरीज की है जो कि सचिन तेंदुलकर की फेयरवेल सीरीज भी थी,

इस सीरीज में वेस्टइंडीज के खिलाफ डेब्यू करते हुए मोहम्मद शमी ने दूसरी इनिंग्स में 5 विकेट अपने नाम करके टेस्ट डेब्यू में अपना नाम स्वर्णिम करवा लिया।

Mohammed Shami IPL

तो यह था अंतरराष्ट्रीय क्रिकेट में अभी तक का तय किया गया मोहम्मद शमी का सफर और अगर अब हम बात करें मोहम्मद शमी के निजी जीवन की तो उनका निजी जीवन काफी उथल-पुथल भरा रहा बता दें कि मोहम्मद शमी ने अपनी गर्लफ्रेंड हसीन जहां से 6 जून 2014 में शादी की जिससे उनकी एक बेटी भी है

लेकिन शमी के जीवन में एक कठिन मोड़ तब आया जब मोहम्मद शमी की पत्नी हसीन जहां ने 9 मार्च 2018 को शमी के ऊपर बलात्कार , शोषण और मैच फिक्सिंग जैसे गंभीर आरोपों को लगाकर उन पर केस किया! आरोप इतने गंभीर थे कि शमी की मेहनत से बरसों से बनी उनकी ख्याति एक पल में ही धूमिल हो गई और आरोपों को देखते हुए बीसीसीआई ने भी शमी से कॉन्ट्रैक्ट खत्म कर लिया ।

लेकिन चुनौतियों की तपती आग में  ना झुलसे वह योद्धा ही कैसा , बीसीसीआई से कॉन्ट्रैक्ट खत्म हो जाने के बाद और विभिन्न गंभीर आरोपों के लगने के बाद भी शमी ने अपने अभ्यास में कोई भी कमी नहीं छोड़ी और वे निरंतर अपने खेल की प्रतिभा को और बेहतर बनाने में लगे रहे , आखिरकार उन पर एक भी आरोप सिद्ध नहीं हुआ और

अंतरराष्ट्रीय क्रिकेट जगत में शमी की वापसी उनके पहले के मैचो से भी बहुत ज्यादा धमाकेदार रही, खेल से दूरी बन जाने के बाद शमी ने अपनी फिटनेस पर बहुत ज्यादा ध्यान दिया था और जब उनकी क्रिकेट जगत में वापसी हुई तो उनकी फिटनेस और गेंदबाजी की नई विकसित तकनीकों की वजह से पूरे विश्व क्रिकेट में शमी की प्रशंसा और ख्याति पहले से भी कई गुना ज्यादा बढ़ गई।

हालांकि उनके  ऊपर केस अभी भी चल रहा है लेकिन अपने निजी जीवन की बड़ी मुश्किलों को पीछे छोड़ते हुए, शमी अपने पेशेवर जीवन में बहुत आगे निकल चुके हैं।

Mohammed Shami Family

Show More

Leave a Reply

Your email address will not be published. Required fields are marked *

Related Articles

Back to top button