naaradtv.com

दोस्तों कहते हैं, रफ्तार से भरी जिंदगी और हौसलों से भरी उड़ान, कामयाबी ना भी देकर जाए! तब पर भी वह, गहरा अनुभव एवं जिंदगी को जीने का एक अमिट सबब  दे ही जाती है।

आज के इस दौर में जहां हम जी रहे हैं,रफ्तार को अपने जीवन का मौलिक तत्व मानकर चल रहे हैं। फिर चाहे बात मानव  समाज की हो या खेल के  मैदान  की, रफ्तार की मौलिकता हर क्षेत्र में रही हैं और भविष्य में भी बनी  रहेगी।

नमस्कार दोस्तों मेरा नाम है अनुराग सूर्यवंशी और आज की इस वीडियो में हम आपसे बात करेंगे विश्व क्रिकेट जगत के पांच ऐसे तेज गेंदबाजों की जिनकी “ रफ्तार ही लगातार” विश्व क्रिकेट पटल पर  अपने झंडे गाड़ती रही ।

Fast Bowling

अपनी रफ्तार की आग से मैदान के गलियारों को रोशन करने की हमारी इस फेहरिस्त में पांचवा नाम जुड़ता है ऑस्ट्रेलियन गेंदबाज मिचेल स्टार्क का। मिचेल स्टार्क ही वह अंतरराष्ट्रीय क्रिकेट जगत के सितारे हैं जिन्होंने क्रिकेट विश्व इतिहास में पांचवीं सबसे तेज गेंद फेंकी है,   स्टार्क  ने अभी तक के अपने अंतरराष्ट्रीय क्रिकेट करियर में कुल 61 टेस्ट 96 एकदिवसीय तथा 35 T20 मैच खेले हैं, जिनमें उनके क्रमशाह विकेट 255, 184 तथा 47 है।

मिचेल स्टार्क की गेंदबाजी की औसत गति यू तो 145 किलोमीटर प्रति घंटे से भी अधिक है, लेकिन उन्हें तेज गेंदबाजों की भीड़ से अलग करती है उनके द्वारा फेंकी गई विश्व क्रिकेट इतिहास की पांचवीं सबसे तेज गेंद, जिसकी रफ्तार 160.4 किलोमीटर प्रति घंटा थी। दरअसल बात है साल 2015 के ऑस्ट्रेलिया बनाम न्यूजीलैंड टेस्ट मैच की जिसमें मिचेल स्टार्क ने रॉस टेलर को 160.4 किलोमीटर प्रति घंटे की रफ्तार से गेंद डालकर, क्रिकेट रिकॉर्ड बुक में अपना नाम दर्ज करवा लिया था।

Mitchell Starc

हमारी इस सूची में चौथा नाम फिर एक ऑस्ट्रेलियाई गेंदबाज का जुड़ता है, जिसने विश्व क्रिकेट इतिहास में चौथी सबसे तेज गेंद फेंकी है।

हम बात कर रहे हैं पूर्व ऑस्ट्रेलियाई गेंदबाज जैफ थॉमसन की।   थाॅमसन अपने क्रिकेट करियर में राइट आर्म फास्ट शैली से गेंदबाजी किया करते थे। आपको बता दें कि जैफ थॉमसन ने अपने अंतरराष्ट्रीय क्रिकेट करियर में 51 टेस्ट, 50 ओ डी आई और 187 प्रथम श्रेणी मैच खेले हैं जिनमें उनके विकेट क्रमशाह 200, 55 और 675 है।जैफ थॉमसन ने विश्व क्रिकेट में चौथी सबसे तेज गेंद , साल 1975 के पर्थ टेस्ट मैच में वेस्टइंडीज के खिलाफ फेंकी थी, जिसकी रफ्तार 160.6 किलोमीटर प्रति घंटा थी।

Jeff Thomson

अब हम बात करते हैं विश्व क्रिकेट में फेंकी गई तीसरी सबसे तेज गेंद की , जिसका भी रिकॉर्ड एक पूर्व ऑस्ट्रेलियाई गेंदबाज के ही नाम है।

विश्व क्रिकेट इतिहास में फेंकी गई तीसरी सबसे तेज गेंद का रिकॉर्ड ऑस्ट्रेलिया के राइट आर्म फास्ट बॉलर Brett lee के नाम है। जिन्होंने साल 2005 में न्यूजीलैंड के बल्लेबाज क्रेग कमिंग के खिलाफ 161.1 किलोमीटर प्रति घंटा की रफ्तार से गेंद फेंकी थी । आपको बता दें कि ब्रेट ली अपने पूरे क्रिकेट करियर में रफ्तार के लिए भी ही मशहूर रहे और उनकी औसत बोलिंग स्पीड 148.3 किलोमीटर प्रति घंटा थी ,जो कि अपने आप में फास्ट बॉलर के लिए एक बहुत बड़ी उपलब्धि है।

Brett Lee

अगर हम बात करें विश्व क्रिकेट इतिहास में फेंकी गई दूसरी सबसे तेज गेंद की , तो इसकी भी रफ्तार 161.1 किलोमीटर प्रति घंटा थी , जो कि

Brett lee द्वारा फेंकी गई तीसरी सबसे तेज गेंद के बराबर है।

अंतरराष्ट्रीय क्रिकेट जगत में दूसरी सबसे तेज गेंद को भी ऑस्ट्रेलियन गेंदबाज ने फेंका था। घटना साल 2010 के इंग्लैंड वर्सेस ऑस्ट्रेलिया मैच की है, जिसमें ऑस्ट्रेलियन गेंदबाज शॉन टेट ने 161.1 किलोमीटर प्रति घंटा की रफ्तार से गेंद फेंक दी थी।

Shaun Tait

अब हम बात करते हैं अभी तक के विश्व क्रिकेट इतिहास की, सबसे तेज गेंद की जिसको पाकिस्तान के पूर्व गेंदबाज शोएब अख्तर ने फेंका था।   अपनी तेज गेंदबाजी के लिए मशहूर, शोएब अख्तर को अंतरराष्ट्रीय क्रिकेट जगत में रावलपिंडी एक्सप्रेस के उपनाम से भी नवाजा गया था । शोएब ने अपने अंतरराष्ट्रीय क्रिकेट करियर में 46 टेस्ट 163 ओडीआई और 15 T20 मैच खेले हैं । जिनमें उनके क्रमसाह विकेट 178। , 247 और 19 है। शोएब अख्तर ने विश्व की सबसे तेज गेंद इंग्लैंड के खिलाफ 2003 वर्ल्ड कप के दौरान फेंकी थी जिसकी रफ्तार 161.3 किलोमीटर प्रति घंटा थी । शोएब अख्तर का यह रिकॉर्ड आज तक अनबीटेबल है।

Shoaib Akhtar

 तो यह थी विश्व क्रिकेट इतिहास में फेंकी गई पांच सबसे तेज गेंद, उम्मीद है आपको हमारा यह एपिसोड पसंद आया होगा।

Leave a Reply

Your email address will not be published. Required fields are marked *

error: Content is protected !!